कश्मीर पर किताबों की सूची, ज़रूर पढ़ें

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

दिल्ली के हौज़ख़ास मार्केट में मिडलैंड बुक्स के नाम से एक किताब की दुकान है। वहां पर कश्मीर पर कुछ किताबें एक साथ रखी हुई थीं। हमने सोचा कि क्यों न हम उन किताबों की तस्वीर और नाम आप पाठकों के लिए यहां पेश करें। ऐसा तो हो नहीं सकता कि कोई कश्मीर को गहराई से नहीं जानना चाहता हो। बेशक सभी के पास इतने पैसे नहीं होंगे कि सभी ख़रीद लें और पढ़ डालें। वैसे हमने भी नहीं पढ़ी है तो नहीं कह सकते कि आप सभी ख़रीदें और पढ़ें। फिर भी पता होना चाहिए। क्या पता लाइब्रेरी में सारी किताबें मिल जाएं और पढ़ते पढ़ते आप ख़ुद तय करें कि कहां से बेहतर समझ बनती है। आज भले न पढ़ें मगर जीवन में ज़रूर पढ़ें। ख़ासकर हिन्दी प्रदेश के पाठकों से अनुरोध है। कश्मीर के बारे में उनकी जानकारी नेताओं के अधकचरे भाषण, हिन्दी अख़बारों का कूड़ा और चैनलों के बकवास पर आधारित है। एक ही किताब है हिन्दी में कश्मीर पर। कश्मीरनामा। इस किताब के बारे में कई बार लिख चुका हूं। पहले यही पढ़ लें फिर आगे धीरे धीरे अन्य किताबें पढ़ें। कश्मीरनामा को अशोक कुमार पाण्डेय ने लिखा है और राजपाल एंड संस प्रकाशन ने छापा है। अमेज़ान पर होगी। अशोक पाण्डेय ने भी अपनी किताब में 100 से अधिक किताबों का संदर्भ दिया है, जिनकी सहायता उन्होंने ली है। इसलिए पहले हिन्दी वाली पढ़ लें और फिर धीरे-धीरे पढ़ते रहें। ए जी नूरानी की किताबों को अवश्य पढ़ें। कुछ किताबों की ऐसी तस्वीर और नाम है जो मिडलैंड में नहीं थी लेकिन हमने अपने एक मित्र से पूछा था। उनके भी नाम और तस्वीरें होंगी यहां। वैसे मिडलैंड वाले आपकी पसंद की किताब मंगा कर दे देंगे।

1. ARTICLE 370- A CONSTITUTIONAL HISTORY OF JAMMU AND KASHMIR – A G NOORANI

2. THE KASHMIR DISPUTE 1947-2012- A G NOORANI

3. THE KASHMIR DISPUTE 1947-2012, VOLUME 2- A G NOORANI

4. UNDERSTANDING KASHMIR AND KASHMIRI-
CHIRSTOPHER SNEDDEN

5..WHAT HAPPENED TO GOVERNANCE IN KASHMIR- AIJAZ ASHRAF WANI

6.THEY SNATCHED MY PLAYGROUND- KHALID JEHANGIR

7.MY KASHMIR IN PEACE AND TURBULENCE-STORY OF A NATIVE IN EXILE- B L KAUL

8.CRAFTING PEACE IN KASHMIR- VERGHESE KOITHARA

9.KASHMIR EXPOSING THE MYTH BEHIND THE NARRATIVE- KHALID BASHIR AHMAD

10.UNRAVELLING THE KASHMIR NOT- AMAN M. HINGORANI

11.JAMMU AND KASHMIR 1998 AND BEYOND, COMPETITIVE POLITICS IN THE SHADOW OF SEPARATISM- REKHA CHOWDHARY, VOLUME 2

12.RADIO KASHMIR IN TIMES OF PEACE AND WAR- RAJESH BHATT

13.KASHMIR AND BEYOND 1966-84- JAWAID ALAM

14 BETWEEN THE GREAT DIVIDE, PAKISTAN ADMINISTERED KASHMIR- ANAM ZAKARIA

13.K FILE- CONSPIRACY OF SILENCE- BASHIR ASSAD

14.A DESOLATION CALLED PEACE- ARTHER ZIA AND JAVAID IQHBAL

15.IDENTITY POLITICS IN JAMMU AND KASHMIR- REKHA CHOWDHARY

16.RELIGION INTER- COMMUNITY RELATIONS AND THE KASHMIR CONFLICT-YOGINDER SIKAND

17.THE MANY FACES OF KASHMIR NATIONALISM- NANDITA HAKSAR

18.LANGUAGE OF BELONGING-CHITRALEKHA ZUTSHI

19.KASHMIR’S CONTESTED PAST-CHITRALEKHA ZUTSHI

20.TERRITORY OF DESIRE, REPRESENTING THE VALLEY OF KASHMIR- ANANYA JAHANARA KABIR

21.KASHMIR HISTORY POLITICS REPRESENTATION- CHITRALEKHA ZUTSHI

22.THE VALLEY OF KASHMIR, THE MAKING AND UNMAKING OF COMOSITE CULTURE- APARNA RAO

23.OUR MOON HAS BLOOD CLOTS-RAHUL PANDITA

24. KASHMIR AS I SEE IT- ASHOK DHAR

25. CURFEWED NIGHT- BASHARAT PEER

 

Facebook Reactions